कपिल और इरफ़ान खान के बाद अब सिंगर मीका सिंह को BMC का नोटिस

पहले कॉमेडियन और एक्टर कपिल शर्मा, फिर इरफ़ान खान और अब सिंगर मीका सिंह BMC के निशाने पर हैं. जिन्हें BMC ने अपने फ़्लैट में गलत तरीके से बिना अनुमति निर्माण करने के आरोप में नोटिस भेज दिया है. BMC ने मीका को Maharashtra Regional Town Planning (MRTP) एक्ट के तहत जो नोटिस भेजा है उसके मुताबिक उन्होंने बिना किसी अनुमति के अपने फ़्लैट के साथ छेड़छाड़ की है. मीका ने फ़्लैट के पिलर को भी बिना इजाज़त हटाया है जो उन्हें नहीं करना चाहिए था. जिसके बाद इसकी जानकारी जब BMC को मिली तो फ़ौरन उन्हें ऐसा न करने की सलाह दी गयी.लेकिन फिर भी मीका नहीं माने और काम जारी रखा.

मीका सिंह को BMC की तरफ से जो नोटिस भेजी गयी है उसके मुताबिक़ ” फ़्लैट मालिक मीका सिंह के खिलाफ कार्रवाही करने की कई वजह है, उन्होंने बिल्डिंग की सुरक्षा से खिलवाड़ करते हुए कई निर्माण को इधर उधर किया है. जिससे इमारत की नींव कमज़ोर पड़ सकती है. फ़्लैट के अंदर गलत तरीके से पिलर के इलावा डक्ट्स और वेंटिलेशन बनाये गए हैं जो ओसी प्लान के विपरीत है. इतना ही नहीं बिना इजाज़त पार्किंग वाली जगह से भी छेड़छाड़ की गयी है जिसकी जानकारी सोसाइटी तक को नहीं दी गयी.

मीका सात दिन के अंदर इस अवैध निर्माण को खुद तुड़वाएं अन्यथा BMC फ़्लैट के अंदर बनाये गए अवैध निर्माण को आकर खुद तोड़ देगी. अगर फिर भी फ़्लैट मालिक मीका सिंह को लगता है की नियमों की कहीं कोई अनदेखी नहीं की गयी तो वो सारे कागज़ात BMC के समक्ष पेश करें”.

Image result for DLH Enclave Oshiw

हालांकि इस मामले में मीका के वकीलों ने फिलहाल अदालत से स्तेय ले लिया है. उनके वकील यदुनाथ भार्गवान की मानें तो इसमें मीका की कोई गलती नहीं है. उन्होंने ये फ़्लैट अमरीक सिंह नाम के एक शख्स से ख़रीदा था. अगर फ़्लैट के साथ कहीं कोई छेड़छाड़ की भी गयी है तो ये पूर्व मालिक द्वारा की गयी होगी.

वहीँ BMC के मुताबिक़, जिसके नाम पर फ़्लैट का ऑक्युपेशन सर्टिफिकेट होता है ये उसकी ज़िम्मेदारी है की वो ये देखे की कहीं कोई छेड़छाड़ तो नहीं की गयी है. इस मामले में मीका भी उतने ही कुसूरवार हैं जितना की अमरीक सिंह हैं.

मीका ने भी उसी DLH एन्क्लेव के दसवें माले पर फ़्लैट लिया है जहाँ पहले से ही बॉलीवुड के दो बड़े नाम रहते हैं. इससे पहले BMC ने उन दोनों को भी इमारत के निर्माण से छेड़छाड़ के आरोप में नोटिस दिया था, जिसके बाद उन्हें अवैध निर्माण को तोड़वाने के इलावा जुरमाना तक भरना पड़ा था.

 


Close Bitnami banner
Bitnami