Madhya Pradesh : ‘लापता’ होने के पोस्टरों से प्रज्ञा ठाकुर हुईं नाराज, कहा-देशद्रोहियों के लिए नहीं है कोई जगह

भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने Covid-19 महामारी के दौरान उनके लापता होने के पोस्टर लगाने के लिए कांग्रेस की मध्यप्रदेश इकाई के एक विधायक की आलोचना करते हुए कहा कि ऐसे कांग्रेसियों और देशद्रोहियों के लिए देश में कोई स्थान नहीं है, देश में केवल देशभक्त ही रह सकते हैं.

हालांकि कांग्रेस विधायक ने कहा कि स्वास्थ्य के आधार पर (मालेगांव विस्फोट मामले में) जमानत पर बाहर होने के बाद वह (प्रज्ञा) कबड्डी और गरबा खेल रही हैं तो अदालत को इस पर संज्ञान लेना चाहिए. शुक्रवार रात को आयोजित एक कार्यक्रम में ठाकुर ने कांग्रेस के भोपाल दक्षिण से विधायक पीसी शर्मा पर निशाना साधा जबकि शर्मा कार्यक्रम में ही मौजूद थे. इसके बाद शर्मा कार्यक्रम बीच में ही छोड़ कर चले गए. कार्यक्रम के दौरान ठाकुर ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह पर परोक्ष रूप से कटाक्ष करते हुए कहा कि कोई व्यक्ति नर्मदा नदी की परिक्रमा करने से पवित्र नहीं बन सकता.

मालूम हो कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने 2017 में 3,300 किलोमीटर लंबी नर्मदा परिक्रमा पैदल की थी. ठाकुर ने एमवीएम मैदान एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘ पशु में भी संवेदना होती है, उसका बच्चा जब मर जाता है, बीमार होता है तो वह रोता है. पर ये तो पशु से भी गए बीते हैं. बीमार को बीमार नहीं मानते, पहले तो (मुझे) प्रताड़नाएं दी और जब मैं बीमार हो गई तो ये हमारे गुमशुदा का पोस्टर लगाते हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ ऐसे लोगों पर शर्म आती है. ऐसे लोग विधायक बनने लायक नहीं हैं, लेकिन विधायक बनते हैं. ऐसे लोग खुद को हिंदू कहते हैं, लेकिन वे असंदनशील हैं. वे हम पर हमला करते हैं. ऐसे कांग्रेसियों को शर्म आनी चाहिए. ऐसे देशद्रोहियों को मैं कहती हूं, इनके लिए भारत में जगह नहीं है, भारत में रहेगा तो सिर्फ राष्ट्रभक्त रहेगा.’’

मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी सांसद ने कहा कि देश हिंदुओं के साथ है क्योंकि वे देशभक्त हैं. उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रभक्त अपनी पहचान को समझ लें तो सीमाएं सुरक्षित हो जाएंगी, भारत अखंड हो जाएगा, भारत वैभव पर पहुंचेगा.’’

ठाकुर द्वारा अपने भाषण में उन पर हमला किए जाने पर कार्यक्रम बीच में ही छोड़ने वाले कांग्रेस विधायक शर्मा ने कहा, ‘‘ यह एक सामाजिक मंच था न कि राजनीतिक, जहां उन्होंने राजनीतिक टिप्पणियां की. यह एक दशहरा कार्यक्रम था लेकिन उन्होंने उन लोगों का अपमान किया जिन्होंने नर्मदा परिक्रमा की है. उनका (प्रज्ञा) निशाना चाहे कोई हो, लेकिन यह निंदनीय है’’

शर्मा ने कहा, ‘‘ उन्होंने (प्रज्ञा) कहा कि उनके लापता होने के पोस्टर लगाए गए थे. भोपाल के लोग दो साल से महामारी के दौरान अस्पतालों में बिस्तरों, दवाइयां और इंजेक्शन के लिए परेशान थे. वह भोपाल की सांसद हैं और लोग उनसे अपनी परेशानियां हल करने की मांग कर रहे थे.’’

कांग्रेसियों का देश में कोई स्थान नहीं होने के सवाल पर शर्मा ने कहा कि यह संविधान द्वारा तय किया जाएगा न कि प्रज्ञा ठाकुर द्वारा. उन्होंने कहा, ‘‘ कांग्रेस से देश को आजादी मिली और उस समय ये लोग अंग्रेजों के साथ थे. वह माहौल खराब करने की कोशिश कर रही हैं क्योंकि स्वास्थ्य के आधार पर(मालेगांव विस्फोट मामले में) जमानत पर बाहर होने के बाद वह कबड्डी और गरबा खेल रही हैं तो अदालत को इस पर संज्ञान लेना चाहिए. ’’ हाल ही में सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो में ठाकुर कबड्डी खेलते और गरबा नृत्य में भाग लेते दिखाई दे रही हैं.

मालेगांव विस्फोट मामले में गिरफ्तार होने के बाद कई साल जेल में बिताने वाली ठाकुर ने पहले आरोप लगाया था कि उन्हें अवैध रुप से हिरासत में लिया गया और हिरासत में प्रताड़ित किया गया. दशहरा कार्यक्रम से शर्मा को जाने से रोकने की कोशिश करने वाले भाजपा सचिव राहुल कोठारी ने कहा कि कांग्रेस विधायक को मंच नहीं छोड़ना चाहिए था.

उन्होंने कहा, ‘‘ जब कांग्रेस विधायक को शर्म आ रही थी तो मंच पर क्यों बैठे? भोपाल की सांसद ने किसी का नाम नहीं लिया.’’ इस बीच, भोपाल जिला कांग्रेस प्रमुख कैलाश मिश्रा के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शनिवार को ठाकुर के खिलाफ धरना दिया और आरोप लगाया कि उन्होंने नर्मदा परिक्रमा करने वाले भक्तों का अपमान किया है.

कम्प्यूटर बाबा के नाम से पहचाने जाने वाले धार्मिक नेता नामदेव त्यागी ने ठाकुर के नर्मदा परिक्रमा वाले बयान की निंदा की.

उन्होंने कहा कि ठाकुर को इस तीर्थ यात्रा पर जाने वाले भक्तों से माफी मांगनी चाहिए अन्यथा उन्होंने ठाकुर के खिलाफ विरोध शुरू करने की चेतावनी दी. (PTI Input)


Close Bitnami banner
Bitnami