टीवी संपादक भड़काना चाह रहे थे माहौल – मुंबई पुलिस ने दिया करारा जवाब

मुंबई पुलिस ने एक बार फिर सोशल मीडिया पर भरमाक और झूटी जानकारी देने वाले को करारा जवाब दिया है। इस बार निशाने पर थे सुदर्शन टीवी के संपादक सुरेश चाह्वान्के। जिन्होंने मुंबई पुलिस के खिलाफ मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को टैग कर अनर्गल आरोप लगाते हुए ट्वीट कर ये आरोप लगाया था कि मुसलमानों की रैली की वजह से उन्हें दक्षिण मुंबई की तरफ जाने की इजाज़त नहीं मिली। मुंबई पुलिस ने एक तरफा फैसला लेते हुए एक पक्ष को अनुमति दी है। उनके इस आरोप पर बिना देर किये मुंबई पुलिस ने भी उन्हें उनके स्टाइल में ही जवाब दिया है। मुंबई पुलिस ने ट्वीट कर कहा कि हमारे पास किसी तरह का लिखित आवेदन नहीं आया है। अगर आपने पहले आवेदन दिया होता तो आपको भी अनुमति मिलती।

 

 

सुदर्शन टीवी के संपादक सुरेश चाह्वान्के ने ये ट्वीट आज किया था। उन्होंने मुख्यमंत्री को टैग करते हुए लिखा था कि, आज आजाद मैदान पर मुस्लिमों की रैली है, इसलिए भारत बचाओ यात्रा को दक्षिण मुंबई में नहीं ले जा सकते। सुरक्षा कारणों का हवाला देकर मुंबई पुलिस का तर्क। हमारा कार्यक्रम पहले से तय था, तो उनको प्राथमिकता क्यों? क्या वह हमारी यात्रा पर हमला करेंगे और आप बचा नहीं पाएंगे? सुरेश चाह्वान्के ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को भी टैग किया।

 

 

इसके जवाब में मुंबई पुलिस ने भी आज ट्वीट कर सुरेश चाह्वान्के के आरोपों पर सफाई दी। मुंबई पुलिस ने अपने अधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा कि आपने इस यात्रा के लिए हमारे पास किसी तरह का लिखित आवेदन नहीं किया है। इसलिए दक्षिण मुंबई में आपको रैली निकालने की अनुमति नहीं दी जा रही है। एक सप्ताह पहले आवेदन करना अनिवार्य है। किसी भी कार्यक्रम के आयोजन से पहले नियमों की जानकारी आपको असुविधा से बचाती है। इस बात का ध्यान रखें। बता दें कि सुरेश चाह्वान्के जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग को लेकर देशभर में भारत बचाओं रथ यात्रा निकाल रहे हैं।

मुंबई पुलिस के जवाब में सुरेश चव्हाण ने मुंबई पुलिस पर झूठ बोलने का आरोप लगाया और ट्वीट के साथ अनुमति पत्र की तस्वीर भी ट्वीट की। इस ट्वीट पर मुंबई पुलिस ने भी अपना पक्ष रखते हुए सफाई दी।


Close Bitnami banner
Bitnami