स्वर्ण मंदिर पहुंची राधे माँ, दान किया लाखों रूपए का सामान

चर्चित राधे माँ आज अमृतसर के स्वर्ण मंदिर पहुंची. और वहां पर मत्था टेककर लाखों रूपए का सामान दान किया है.अपने दान में राधे माँ ने स्वर्ण मंदिर में लंगर के लिए 12 हज़ार थालिया 10 हज़ार गिलास और 10 हज़ार चम्मच दान किया है. राधे माँ द्वारा दान किये हुए इन बर्तनों की कीमत कुल मिलकर 20 लाख रूपए की थी. राधे मान ने दान स्वर्ण मंदिर में सेवा के लिए किए है. इस दौरान मीडिया से बात करते हुए राधे माँ ने कहा की उन्होंने कुछ भी दान नहीं किया है. उनकी इतनी हैसियत नहीं की वो स्वर्ण मंदिर में दान दे सके. जो कुछ था वो प्रभु की कृपा थी. उन्होंने कहा की उन्हें जो कुछ भी प्रभु ने दिया है उसमे कुछ हिस्सा उन्हें अर्पण करने आयी हुई है.

Image result for radhe maa in golden temple image

राधे माँ मुंबई के बोरीवली इलाके में रहती है. हमेशा उनका नाता विवादों से रहा है.राधे माँ का जन्म पंजाब में हुआ था. उनकी शादी 17 साल की उम्र में उनकी शादी मोहन सिंह नामक व्यक्ति से हुई थी. राधे माँ का बचपन का नाम सुखविंदर कौर है. २३ साल की उम्र में राधे परमहंस बाग डेरा मुकेरियन के महंत रामदीन दास की शिष्या बन गई। महंत राम दीन ने ही उन्हें राधे मां की उपाधि दी थी। बता दे की राधे माँ इसके पहले अपने नाच गाने को लेकर सुर्ख़ियों में थी. उन्हें अपने भक्तों के गोदी में नाचने का खूब सौक है.


Close Bitnami banner
Bitnami