दलितों के समर्थन में राहुल गाँधी का उपवास,थोड़ी देर में पहुंचेगे राजघाट

2019 लोकसभा चुनाव जैसे-जैसे करीब आ रहा है, सियासत तेज़ होती जा रही है. ताज़ा मुद्दा दलितों का है, मोदी सरकार पर आरोप लग रहे हैं कि उनके राज में दलित सुरक्षित नहीं हैं. विरोध में राहुल गांधी आज उपवास पर हैं. दिल्ली के राजघाट में जहां महात्मा गांधी की समाधि है, उसी के पास राहुल गांधी उपवास करेंगे.

पूरा दिन राजघाट पर नहीं बैठेंगे राहुल: माकन

दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि राहुल गांधी राजघाट पर आएंगे और थोड़ी देर बैठने के बाद चले जाएंगे. वो पूरे दिन राजघाट पर नहीं बैठेंगे. बता दें कि अजय माकन, पीसी चाको अरविंदर लवली, हारून यूसुफ, राजा बराड़ भी उपवास कर रहे हैं.

राहुल गांधी उपवास करें झूठ ना फैलाएं: बीजेपी

राहुल गांधी के उपवास पर बीजेपी ने एक वीडियो बनाया है. जिसमें बीजेपी कह रही है कि राहुल उपवास करें लेकिन झूठ न फैलाएं. खुद बीजेपी को अपने घर से भी विरोध का सामना करना पड़ रहा है. उसके पांच दलित सांसद अपनी ही सरकार से नाराज़ हो गए हैं.

प्रदेश और जिला कांग्रेस कार्यकर्ता भी उपवास रखेंगे
इसके साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष के निर्देश पर देश भर के जिला और प्रदेश मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ता उपवास करेंगे. कांग्रेस ने केंद्र और बीजेपी की प्रदेश सरकारों पर 2 अप्रैल को हुई हिंसा को रोकने में असमर्थ होने का आरोप लगाया है.

क्यों उपवास कर रहे हैं राहुल गांधी?

सुप्रीम कोर्ट के एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के फैसले के विरोध में देश भर के दलित संगठनों ने दो अप्रैल को ‘भारत बंद’ बुलाया था. इस बंद के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी 10 लोगों की मौत हो गई थी.

दलितों पर बीजेपी-कांग्रेस आमने सामने

कांग्रेस के बड़े नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कल कहा कि मोदी राज में दलित समाज पर अत्याचार बढ़ गए हैं. सिब्बल की बात जवाब देने आए कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस से सवाल पूछा कि राहुल गांधी ये झूठ क्यों फैला रहे हैं कि मोदी सरकार ने दलित एक्ट ही खत्म कर दिया.

मायावती ने भी साधा बीजेपी पर निशाना

बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने भी दलितों के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा है. मायावती ने कहा बीजेपी आग से न खेले नहीं तो वही हाल होगा जो इमरजेंसी के बाद चुनाव में कांग्रेस का हुआ था. मायावती पर पलटवार करते हुए बीजेपी ने कहा कि मायावती समाज को बांटने का काम ना करें.

चुनावी राजनीति में दलति क्यों हैं अहम?

2014 में मोदी को पीएम बनाने में दलितों का बहुत बडा योगदान था. 2014 के लोकसभा चुनाव में 24 फीसदी दलितों ने बीजेपी को वोट किया था, जबकि पहले ये संख्या 12-14 फीसदी होती थी. 2014 में कांग्रेस को 19 और बीएसपी को देश भर में 14 फीसदी दलितों ने वोट किया. ऐसे में अगर दलितों का मुद्दा और गरम होता है तो बीजेपी की परेशानी बढ़ सकती है.

Source ABP


Close Bitnami banner
Bitnami