मॉब लिंचिंग पर भड़का शिवसेना प्रमुख का गुस्सा, उद्धव ठाकरे ने कहा- यह फेक हिंदुत्व

संसद में मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग में हिस्सा न लेने वाली शिवसेना की नाराजगी एक बार फिर सामने आई है. पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अब मॉब लिंचिंग और गोरक्षा जैसे मुद्दों पर भी बीजेपी को निशाने पर लिया है. साथ ही हिंदुत्व को लेकर भी सवाल उठाए हैं.

शिवसेना मुखपत्र सामना में छपे इंटरव्यू में उद्धव ने बताया कि बालासाहब ठाकरे जिस हिंदुत्व की बात करते थे वो शिवाजी महाराज का हिंदुत्व था लेकिन पिछले 3 साल से देश में जो हिंदुत्व का उन्माद चढ़ा है, वो सही नहीं है.

इसके अलावा उन्होंने हिंदुत्व और गाय के नाम पर मॉब लिंचिंग को भी गलत ठहराया. ठाकरे ने कहा कि, ‘गाय की रक्षा हो रही है, लेकिन महिलाओं के बारे में देश सबसे असुरक्षित बनता जा रहा है. उसकी शर्म होनी चाहिए. गोमाता की रक्षा तो करो लेकिन माता की रक्षा का क्या?’

उद्धव ठाकरे ने आरोप लगाया कि महिलाओं की रक्षा छोड़कर कौन क्या मांस खा रहा है, इसकी जांच करने में सरकार लगी हुई है. उन्होंने साफ कहा कि इसे हिंदुत्व नहीं कहा जा सकता, ये भ्रम फैला रहा है.

अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग से दूरी बनाए रखने के शिवसेना के फैसले से अमित शाह नाराज बताए जा रहे हैं. अमित शाह ने अविश्वास प्रस्ताव से एक दिन पहले ही शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को फोन किया था. उसके बाद संभावना जताई जा रही थी कि शिवसेना सरकार को समर्थन देगी.

अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शिवसेना के बर्ताव से नाराज अमित शाह ने मुंबई में महाराष्ट्र बीजेपी के नेताओं से कहा कि जिस तरह बीते कुछ समय से शिवसेना का व्यवहार रहा है, ख़ासकर अविश्वास प्रस्ताव में अनुपस्थिति, उसके बाद हमें महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ना पड़ सकता है. इसलिए हमें सभी 48 लोकसभा सीटों पर तैयार रहना चाहिए.


Close Bitnami banner
Bitnami