तमिलनाडु: राज्यपाल के महिला पत्रकार के गाल थपथपाये- ‘मैंने कई बार चेहरा धोया’

तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित की एक हरकत ने उनके पद और नाम दोनों की गरिमा पर सवाल खड़े कर दिए हैं. अपनी हरकत की वजह से वो एक बार फिर विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं. ‘डिग्री के लिए सेक्स’ केस में घि‍रे बनवारी लाल पुरोहित ने अपनी सफाई देने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेस बुलाई थी. लेकिन इस प्रेस कोंफ्रेस्न में उन्होंने ऐसी हरकत कर दी जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी. वहां मौजूद सभी पत्रकार चौंक गए जब एक महिला पत्रकार के सवाल पर राज्यपाल ने जवाब देने के बजाय उसके गाल सहला दिए. राज्‍यपाल की इस हरकत महिला पत्रकार शॉक रे गईं. उन्होंने एक राज्यपाल से ऐसी हरकत की उम्मीद नहीं की थी.

उस वक़्त तो वहां से निकल गयीं लेकिन महिला पत्रकार ने ट्वीटर पर राज्यपाल की इस हरकत की निंदा करते हुए लिखा कि, वो उनकी ऐसी हरकत से काफी असहज हो गईं. इस घटना के बाद उसने कई बार अपना मुंह धोया, लेकिन वो इस बात को भुला नहीं पा रही थी.

महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम ने सोशल मीडिया पर राज्यपाल के इस हरकत का पुरज़ोर विरोध किया है . उन्होंने अपने आर्टिकल में राज्‍यपाल के इस हरकत को बेहद दुखद और गलत बताया है.

पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम ने ट्वीट किया कि, ‘मैं अपना चेहरा कई बार धोया, लेकिन मैं इस भाव से छुटकारा नहीं पा रही. राज्‍यपाल बनवारी लाल पुरोहित मैं काफी गुस्‍से में हूं. ये हो सकता है आपके लिए प्रात्‍साहन का तरीका और दादाजी जैसा रवैया हो, लेकिन मेरे लिए आप गलत हैं.’ उन्होंने आगे लिखा है, ये अव्‍यवहारिक रवैया है. किसी भी अंजान को उसकी सहमति के बिना छूना, खास तौर से महिला को, ये गलत है.

राज्यपाल के इस हरकत पर विपक्षी पार्टी द्रमुक ने घटना को संवैधानिक पद पर बैठे एक व्यक्ति का ‘अशोभनीय’ कृत्य करार दिया है. द्रमुक की राज्यसभा सदस्य कनिमोझी ने ट्वीट किया कि, ‘अगर संदेह नहीं भी किया जाए तब भी संवैधानिक पद पर बैठे एक व्यक्ति को इसकी मर्यादा समझनी चाहिए. एक महिला पत्रकार को छूकर गरिमा का परिचय नहीं दिया है.’


Close Bitnami banner
Bitnami