हमें सत्ता का सुख नहीं मिला, बस तलाक का ऐलान होना बाकी – शिवसेना

केंद्र और महाराष्ट्र की सत्ता में भागीदार शिवसेना आए दिन बीजेपी पर निशाना साधती हैं. करीब 4 वर्षों तक सत्ता का सुख भोगने के बाद शिवसेना एनडीए से बाहर निकलने के लिए बहाने तलाश रही हैं , इसी कड़ी में शिवसेना ने नया शगूफा छोड़ा हैं.

शिवसेना ने दावा किया हैं की, इतने साल रहने के बाद भी उन्हें सत्ता की मलाई चखने का मौका नहीं मिला. शिवसेना सांसद संजय राऊत के मुताबिक, भले ही उनकी पार्टी सत्ता में हो लेकिन बीजेपी के साथ उनका नाता खत्म हो चुका हैं.

इतने समय तक सरकार में रहने के बावजूद भी उन्हें कभी सत्तासुख नहीं मिला . रिप्बलिक टीवी के सवाल पर राऊत ने कहा की, बीजेपी किसी को सत्ता सुख भोगने नहीं देती हैं. जो कुछ हैं वो बीजेपी के खाते में ही आता हैं .

बस, तलाक का ऐलान होना बाकी हैं

संजय राऊत ने दावा किया हैं की अब दोनों दलों के बीच रिश्ता खत्म हो चुका हैं. भले ही दोनों फिलहाल साथ हो लेकिन अगले चुनाव से पहले 25 साल पुरानी दोस्ती तोड़ने का ऐलान उद्धव ने पहले ही कर दिया .

2019 लोकसभा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में शिवसेना अलग लड़ने वाली हैं . बीजेपी भले ही अब भी गठबंधन करने की कोशिश कर रही हो लेकिन शिवसेना गठबंधन नहीं करेगी.

इसे अब कोई तलाक कहें या फिर कुछ और लेकिन बीजेपी को सबक सिखाने का मन शिवसेना ने बना लिया हैं.

बीजेपी को अब भी हैं उम्मीद

भले ही शिवसेना एकला चलो का ऐलान कर चुकी हो लेकिन बीजेपी ने अब भी हौसला नहीं खोया हैं. बीजेपी को लगता हैं की वो चुनाव से पहले अपने रुठे साथी को मना लेगी .

बीजेपी हाईकमान ने भी महाराष्ट्र बीजेपी नेताओं को निर्देश दिए हैं की गठबंधन करने की कोशिश जारी रखें. यही वजह हैं की बीजेपी की तरफ से लगातार बातचित की कोशिश की जा रही हैं की ताकि गठबंधन बना रह सके.


Close Bitnami banner
Bitnami