0

बिहार में भारत-नेपाल अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित डाकू पारा गांव में जुताई के दौरान चांदी के सिक्के मिले हैं. खेत में सिक्के मिलने की बता गांव में जल्गल में लगी आग की तरह फ़ैल गई और जिसके बड़ा देखते ही देखते बड़ी संख्या में गांववाले खेत में जा पहुंचे और लोगों में खजाना लूटने की होड़ मच गई.

मिली जानकारी के मुताबिक खेत से निकले सभी सिक्के चांदी के हैं, जिन पर विक्टोरिया क्वीन की तस्वीर है. जो उन्नीसवीं सदी के बताए जा रहे हैं. इन सिक्कों में इनमें सन 1840 ईस्ट इंडिया कंपनी की विक्टोरिया क्वीन और 1877 के सिक्कों में विक्टोरिया एम्प्रेस की फोटो छपी हुई है.

बताया जा रहा है कि दिघलबैंक थाना क्षेत्र के सिंघीमाड़ी पंचायत के डाकूपाड़ा गांव में जमीन मालिक को खेत में जुताई के दौरान ये सिक्के मिले, लेकिन उसने किसी को कानों कान खबर नहीं होने दी. लेकिन जैसे ही गओंव्लाओं को इसकी भनक लगी वे खेत की ओर दौड़ पड़े और यह सिलसिला दो दिनों तक चलता रहा.

दावा किया जा रहा है कि जिस जगह पर सिक्के मिले हैं वहां पहले दो राजवंशी जमींदार भाइयों चंखु खुंदा और धुम्मा कृतनिया का आवास हुआ करता था. ऐसे में उन्होंने चोर और डाकुओं से बचाव के लिए खजाना जमीन में दबा कर रखा था. लेकिन उनका कोई वंशज न होने के चलते खजाना जमीन में ही दबा रह गया. समय बीतने के साथ वह जगह खेत में तब्दील हो गई और ऐसे में जब ट्रैक्टर से कहते की जुताई की जा रही थी तब घड़ा फूट गया और सिक्के बिखर गए.

वैसे यह कोई पहला मामला नहीं है. इलाके में इस तरह की और भी घटनाएं सामने आईं हैं. लोगों का कहना है कि अक्सर घर की खुदाई या सड़क निर्माण में भी इस तरह के सिक्के मिलते रहते हैं. वहीं इस मामले को लेकर डीएम यशपाल मीणा ने बताया कि मीडिया के माध्यम से उन्हें जानकारी मिली है और अधिकारी मामले पर नजर बनाए हुए हैं.ल्द ही कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने बताया कि पुरातत्व विभाग की टीम मौके पर पहुंच सिक्कों के बारे में जानकारी जुटाएगी.

महिला लेक्चरर को देख Masturbate कर रहा था शख्स, एक ट्वीट से पहुंचा सलाखों के पीछे

Previous article

पाकिस्तान ने रची खौफनाक साजिश, KBC के नाम पर सुरक्षा एजेंसियों को ऐसे बना रहा है निशाना

Next article

You may also like

More in National

Comments

Comments are closed.