3.8 C
Munich
Sunday, February 25, 2024

Aryan Khan Case: तो क्या आर्यन खान को फंसाने में NCB के सीनियर अफसर भी थे शामिल, बड़े अफसर क्यों चाहते थे आर्यन खान की कस्टडी?  चैट से हुआ बड़ा खुलासा

CBI ने आईआरएस अधिकारी समीर वानखेड़े सहित अन्य के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है. इस सिलसिले में मुंबई में उनके परिसरों की तलाशी ली गई. दूसरी तरफ जैसे जैसे मामले की तफ्तीश आगे बढ़ रही है, इस मामले में कई खुलासे हो रहे हैं. इस मामले में समीर वानखेड़े ने दिल्ली HC के समक्ष रिट पिटीशन दायर कर राहत की मांग की थी. इस याचिका में समीर वानखेड़े और एनसीबी के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच चैट भी कोर्ट के सामने रखी गई. जिससे कई अहम जानकारियां सामने आई है.

चैट से ये बताने की कोशिश की गयी है कि इस पूरे मामले में वो अकेले नहीं थे. बल्कि इस पूरे मामले में हर अपडेट बड़े अधिकारीयों को थी. इस चैट के मुताबिक एनसीबी के वरिष्ठ अधिकारी खुद चाहते थे कि आर्यन खान को एनसीबी की कस्टडी में ज़्यादा से ज़्यादा दिनों तक रखा जाए.  चैट से यह बात भी सामने आई है कि समीर वानखेड़े, आर्यन खान से जुड़ा हर अपडेट वरिष्ठ अधिकारियों को बता रहे थे. एनसीबी के वरिष्ठ अधिकारी समीर वानखेड़े को मेसेज भेजकर आर्यन खान के ज्यादा दिनों की रिमांड के लिए जोर देने को कह रहे थे.

याचिका में जो चैट लगाया गया है उसके मुताबिक, आर्यन खान कॉर्डेलिया क्रूज ड्रग्स केस के दौरान एनसीबी के जोनल डायरेक्टर रहे समीर वानखेड़े जांच और कानूनी प्रक्रिया से जुड़ी हर डिटेल एनसीबी के महानिदेशक (डीजी) सत्यनारायण प्रधान , उपमहानिदेशक (DDG) अशोक मुथा जैन, उपमहानिदेशक (DDG) ज्ञानेश्वर सिंह और अतिरिक्त महानिदेशक (ADG) संजय सिंह के साथ साझा कर रहे थे.

चैट से खुलासा हुआ है कि, डीडीजी अशोक मुथा जैन ने कहा था कि डीजी का आदेश कि रिमांड के लिए मजबूती से लड़ा जाए. जैन ने वानखेड़े से इस मामले में अतिरिक्त सहायता के लिए इंदौर, अहमदाबाद से अधिकारी और स्टाफ की भी पेशकश की थी जिस पर समीर वानखेड़े ने हां कहा था.

इसके बाद डीडीजी ने अतिरिक्त स्टाफ भेजने की बात कही. चैट की मानें तो रिमांड के लिए आर्यन खान की पेशी के दौरान डीडीजी अशोक मुथा जैन लगातार समीर वानखेड़े से अपडेट ले रहे थे.

डीडीजी ज्ञानेश्वर भी लगातार ले रहे थे अपडेट

जैन के साथ ही एनसीबी के दूसरे उपमहानिदेशक ज्ञानेश्वर सिंह भी लगातार वानखेड़े से अपडेट ले रहे थे और उन्हें निर्देशित भी कर रहे थे. आर्यन खान की गिरफ्तारी की खबर मिलते ही ज्ञानेश्वर सिंह ने समीर वानखेड़े से इसकी जानकारी मांगी थी. जानकारी मिलने पर जब ज्ञानेश्वर सिंह ने मीडिया से शेयर करने के बारे में पूछा तो वानखेड़े ने उन्हें दोपहर तक रुकने के लिए कहा था. डीडीजी ज्ञानेश्वर भी आर्यन खान की रिमांड को लेकर लगातार वानखेड़े से अपडेट ले रहे थे. रिमांड खारिज होने पर ज्ञानेश्वर सिंह ने समीर वानखेड़े को एक रिपोर्ट भेजी थी, जिसमें बताया गया था कि आर्यन खान केस कैसे आगे बढ़ेगा.

Nishat Shamsi

Nishat Shamsi is an award winning Journalist, Ex Chief of Bureau, Network 18- IBN7. Having 13 years of Experience in Journalism, worked with media house like Hindustan Times , India Tv and NDTV. Specialized in Counter-Terrorism reporting, Special Investigation,Crime & Justice and international strategic and security issues. Have covered almost Blast and investigation across the nation, was first to break 26/11 terror attack.

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article