13.7 C
Munich
Tuesday, May 21, 2024

“रियरव्यू मिरर देख कार चलाने की कोशिश कर रहे हैं”: अमेरिका में राहुल गांधी का पीएम पर तंज

कांग्रेस नेता राहुल गांधी इन दिनों अमेरिका की यात्रा पर हैं. जहां उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि वे भविष्य के बारे में कभी बात नहीं करते हैं और हमेशा अपनी विफलताओं के लिए अतीत में किसी और को दोष देते हैं. अमेरिका के दौरे पर आए राहुल गांधी जेविट्स सेंटर में प्रवासी भारतीयों को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने ओडिशा ट्रेन दुर्घटना में मरने वालों के लिए 60 सेकंड का मौन रखा.

ओडिशा रेल हादसे में 270 से अधिक लोग मारे गए हैं. कुछ हलकों से रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव के इस्तीफे की मांग की जा रही है. कांग्रेस नेता राहुल ने कहा, “मुझे एक ट्रेन दुर्घटना याद है, लेकिन कांग्रेस ने ये यह नहीं बोला कि ये अंग्रेजों की गलती वजह से ट्रेन हादसा हुआ है. कांग्रेस मंत्री ने कहा ‘यह तो मेरी जिम्मेदारी है और मैं इस्तीफा दे रहा हूं.” राहुल गांधी ने कांग्रेस मंत्री का नाम लिए बिना कहा, ‘तो हमारे घर में यही समस्या है, हम बहाने बनाते हैं और हम उस वास्तविकता को स्वीकार नहीं कर रहे हैं जिसका हम सामना कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस भविष्य देखने में अक्षम हैं. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ये भी कहा, “पीएम मोदी रियरव्यू मिरर देख कार चलाने की कोशिश कर रहे हैं, फिर भी उन्हें समझ नहीं आता कि यह कार क्यों दुर्घटनाग्रस्त हो रही है, आगे नहीं बढ़ रही है और यह वही विचार है.” आप मंत्रियों को सुनते हैं, आप प्रधानमंत्री को सुनते हैं, दरअसल आप उन्हें भविष्य के बारे में बात करते कभी नहीं पाएंगे. बस वे केवल अतीत के बारे में बात करते हैं. ”

राहुल गांधी ने कहा, “बीजेपी और आरएसएस भविष्य देखने में अक्षम हैं, क्योंकि वे भविष्य के बारे में कभी बात नहीं करते हैं, वे केवल अतीत के बारे में बात करते हैं और वे हमेशा अतीत के लिए किसी और को दोष देंगे.” उन्होंने कहा कि भारत में दो विचारधाराओं के बीच लड़ाई चल रही है – एक का प्रतिनिधित्व कांग्रेस करती है और दूसरी का प्रतिनिधित्व भाजपा और आरएसएस करती है.

इसी के साथ राहुल ने कहा, “इस लड़ाई का वर्णन करने का सबसे सरल तरीका यह है कि एक तरफ महात्मा गांधी हैं और दूसरी तरफ नाथूराम गोडसे.” राहुल ने कहा, “भारत से जितने भी दिग्गज निकले हैं, आप देख सकते हैं कि उनमें कुछ गुण थे. सबसे पहले, उन्होंने सत्य की खोज की, उसका प्रतिनिधित्व किया और उसके लिए संघर्ष किया. दूसरे, ये सभी लोग विनम्र थे, और उनमें कोई अहंकार नहीं था.” इस तरह भारतीयों ने अमेरिका में काम किया है, और इसीलिए भारतीय यहां सफल हैं. मैं इसके लिए आपका सम्मान और सम्मान करता हूं.

WITN

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article