15.3 C
Munich
Tuesday, May 21, 2024

Cyclone Biparjoy: महाराष्ट्र और गुजरात में NDRF की 33 टीमें तैनात, निचले इलाकों में बारिश और बाढ़ की आशंका

गुजरात के कच्छ जिले में जखौ बंदरगाह के पास चक्रवात ‘बिपारजॉय’ के संभावित दस्तक से पहले राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने गुजरात और महाराष्ट्र में राहत और बचाव अभियान चलाने के लिए कुल 33 टीमों को जिम्मा सौंपा गया है. यह जानकारी अधिकारियों ने बुधवार को दी. एनडीआरएफ की 18 टीमों को गुजरात में रखा गया है, एक को दीव में तैनात किया गया है. दीव उत्तर में गुजरात के गिर सोमनाथ और अमरेली जिलों से और तीन ओर से अरब सागर से घिरा हुआ है.

NDRF की टीम तैयार 
अधिकारियों ने गुजरात में एनडीआरएफ की तैनाती का खाका देते हुए कहा कि एनडीआरएफ की चार टीमों को कच्छ जिले में, राजकोट और देवभूमि द्वारका में तीन-तीन, जामनगर में दो, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, मोरबी, वलसाड और गांधीनगर में एक-एक टीम तैनात की गई है. अधिकारियों ने कहा कि पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की कुल 14 टीमों में से पांच को मुंबई में तैनात किया गया है जबकि बाकी को तैयार स्थिति में रखा गया है.

उन्होंने बताया कि इनमें से प्रत्येक टीम में लगभग 35-40 कर्मी हैं और वे पेड़ और खंभा कटर, बिजली से चलने वाली आरी, हवा भरकर फुलाये जाने वाली नौका और आम बीमारियों की दवाएं और राहत सामग्री से लैस हैं.

लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया
एनडीआरएफ के उप महानिरीक्षक (अभियान) मोहसिन शहीदी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि राज्य के अधिकारियों और एनडीआरएफ ने पिछले दो दिनों में गुजरात के तटीय इलाकों में बड़े पैमाने पर लोगों को निकालने का अभियान चलाया है और 45,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. उन्होंने कहा कि संघीय आपदा रोधी बल के लिए ‘‘मुख्य ध्यान वाला क्षेत्र’’ गुजरात का सौराष्ट्र और कच्छ क्षेत्र है जहां आठ जिलों और 442 निचले इलाकों के गांवों के चक्रवात के प्रभाव से तेज बारिश और बाढ़ से प्रभावित होने की आशंका है.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि ‘बिपारजॉय’ बुधवार को मार्ग बदलने और उत्तर-पूर्व दिशा में कच्छ तथा सौराष्ट्र की ओर बढ़ने को तैयार है और यह गुरूवार शाम को जखौ बंदरगाह के पास पहुंचेगा.

WITN

- Advertisement -spot_img

More articles

- Advertisement -spot_img

Latest article