0

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के भावी अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज के बारे में वह कुछ नहीं बता सकते. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान ने कहा कि भारत-पाक के बीच क्रिकेट संबंध दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के अनुमोदन बाद ही बहाल हो सकते हैं.

कोलकाता में गुरुवार को एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान गांगुली से भारत-पाकिस्तान द्विपक्षीय संबंधों को फिर से शुरू करने के बारे में पूछा गया. पूर्व क्रिकेटर ने जवाब दिया, ‘आपको मोदीजी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से यह सवाल पूछना होगा.’ उन्होंने कहा, ‘बेशक हमें अनुमति लेनी होगी, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय दौरों का मसला दोनों सरकारों के पास है. इसलिए हमारे पास इस सवाल का जवाब नहीं है.’

भारत और पाकिस्तान के बीच पिछले सात सालों से कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं हुई है. दोनों के बीच आखिरी सीरीज 2012 में हुई थी, जब पाकिस्तानी टीम भारत दौरे पर आई थी. जिसमें दो टी-20 इंटरनेशनल और तीन वनडे मैचों की सीरीज खेली गई थी. इसके बाद से ही दोनों टीमों का सामना सिर्फ आईसीसी टूर्नामेंट या एशिया कप में होता है.

इस साल 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की शहादत के बाद बीसीसीआई ने आईसीसी को पत्र लिखकर वैश्विक संस्था और उसके सदस्य देशों से आतंकियों को शरण देने वाले देशों से संबंध तोड़ने की अपील की थी. यह पत्र तीन सदस्यीय प्रशासकों की समिति (सीओए) की तरफ से भेजा गया था, जो बीसीसीआई चुनाव होने तक बोर्ड के कामकाज को संभाल रही है.

47 साल के सौरव गांगुली 23 अक्टूबर को BCCI के अगले अध्यक्ष के रूप में पदभार संभालेंगे. उन्होंने 2004 में पाकिस्तान के ऐतिहासिक दौरे पर भारतीय टीम का नेतृत्व किया था, जो 1999 में कारगिल युद्ध के बाद पहली द्विपक्षीय सीरीज और 1989 के बाद भारत की पहली पाकिस्तान यात्रा थी. इससे पहले सौरव गांगुली ने बुधवार को कहा था कि वह पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर 24 अक्टूबर को चयनकर्ताओं से बात करेंगे.

अजगर ने जकड़ी मनरेगा मजदूर की गर्दन, बाल बाल बची जान, देखें वीडियो

Previous article

काम्या ने रचाई बॉयफ्रेंड के नाम की मेहंदी रखा करवा चौथ का व्रत ?

Next article

You may also like

More in National

Comments

Comments are closed.