0

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है.जहां बक्शा थाना क्षेत्र के रावतपुर गांव में दबिश पहुंची पुलिस दल के एक सिपाही को परिवार वालों ने बंधक बना लिया. परिवार का आरोप है कि दबिश के नाम पर सिपाही महिलाओं के साथ छेड़खानी व अभद्रता कर रहे थे. मामले की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंचे सीओ सदर नृपेंद्र ने समझा बुझाकर मामला शांत कराया और बंधक बने यूपी पुलिस के जवान को मुक्त कराया.

मिली जानकारी के मुताबिक बक्सा थाने की पुलिस टीम रावतपुर गांव में एक लड़की के साथ छेड़खानी और मारपीट के आरोपी को गिरफ्तार करने पहुंची थी. जिसके चलते पुलिस दल और आरोपी के परिवार वालों के बीच जमकर बहस हुई. इसी बीच आरोपी के परिजनों ने पुलिस के एक जवान को घर के अंदर बंद कर दिया. जिसके चलते बाकी पुलिस के जवानों ने बक्सा थाने और सीओ सदर को सूचना दी. सूचना मिलते ही सीओ सदर दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और किसी तरह से परिवार वालों को समझा बुझाकर बंधक सिपाही चंचल यादव को मुक्त कराया.

दरअसल पीड़ित पक्ष का आरोप है कि उनकी बेटी के साथ स्कूल आते जाते समय कुछ युवक छेड़खानी करते थे. इसी विवाद में मारपीट हुई. जिसके बाद दोनों पक्षों ने थाने में तहरीर दी. लेकिन पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई की. बताया जाता है कि युवक पक्ष की तहरीर पर परिवार पर केस दर्ज किया गया. लेकिन इसके बाद दबिश देने के नाम पर पुलिस रात में घर आकर महिलाओं के साथ छेड़खानी व परिजनों के साथ अभद्र व्यवहार करती थी. बीते शनिवार की रात भी सिपाहियों ने तांडव मचाया था और सोमवार तड़के भी चार सिपाही घर पहुंचे और दविश के नाम पर घर में घुस गए.

इस मामले को लेकर परिजनों ने तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है. जबकि सीओ सदर नृपेंद्र का कहना है कि षी को बख्शा नहीं जाएगा. पूरे मामले की जांच कराई जाएगी.

Viral video : टिक-टॉक स्टार ने दी होटल की 10वीं मंजिल से कूदने की धमकी, पुलिसवालों के छूटे पसीने

Previous article

जानिये श्राद्ध के बारे में पूरी विधि, क्यों मातृ नवमी का खास महत्व? 

Next article

You may also like

More in Crime

Comments

Comments are closed.